tarantolabus
» » Mukesh - आँखों में बस के दिल में समाकर - गजल​

Mukesh - आँखों में बस के दिल में समाकर - गजल​ download flac

Mukesh - आँखों में बस के दिल में समाकर - गजल​ download flac

Performer: Mukesh
Title: आँखों में बस के दिल में समाकर - गजल​
Released: 1964
Style: Folk
Category: Classical / Folk music / From media
Album rating: 4.5
Votes: 343
Size MP3: 1121 mb
Size FLAC: 1180 mb
Size WMA: 1930 mb
Other formats: FLAC TTA MIDI MPC XM APE MP3

ल्फ़ाज़ो में नुमायाँ वज़ूद by RockShayar. dosto main pustak likhne mein kafi vyast hu islie post na kar pau dua kijie jald hi pustak puri kar du kya karna hai nadan dunia mein reh k sab apna kehte, hote kaun hai yahan apne :) मीर,गालिब से लेकर आधुनिक शायरों के शेरों ओर ग़ज़लों का सर्वोतम संकलन. December 15, 2015 ·. दस्तक हवा की सुन के कभी डर नहीं गया लेकिन मैं चाँद-रात में बाहर नहीं गया. आँखों में उड़ रहा है अभी तक ग़ुबार-ए-हिज्र अब तक विदा-ए-यार का मंज़र नहीं गय. .

Collection of Gajals. AM Square added 4 new photos to the album: A Family from Nimmu village near leh - in Ladakh, India. October 2, 2016 ·. The lady is a grandmother of two,she is seventy plus & taking care of whole family also helping men in field. ़ज़ल is with Shubham Pandey. February 5, 2013 ·. दिले नादाँ को संभालूँ तो चले जाइएगा एक जरा होश में आ लूँ तो चले जाइएगा. अभी राहों में अँधेरा ही अँधेरा होगा और अँधेरों में छुपा कोई लुटेरा होगा. र तरफ दीप जला लूँ तो चले जाइएगा.

श्ती के मुसाफ़िर ने समुंदर नहीं देखा. े-वक़्त अगर जाऊँगा सब चौंक पड़ेंगे. क उम्र हुई दिन में कभी घर नहीं देखा. िस दिन से चला हूँ मिरी मंज़िल पे नज़र है. आँखों ने कभी मील का पत्थर नहीं देखा. े फूल मुझे कोई विरासत में मिले हैं. तुम ने मिरा काँटों भरा बिस्तर नहीं देखा. ारों की मोहब्बत का यक़ीं कर लिया मैं ने. फूलों में छुपाया हुआ ख़ंजर नहीं देखा. हबूब का घर हो कि बुज़ुर्गों की ज़मीनें. ो छोड़ दिया फिर उसे मुड़ कर नहीं देखा. 30,000+ ग़ज़लों, 20,000+ शेर, 40,000+ ई-पुस्तकों में तलाश कीजिए. पकी खोज और इनपुट पर आधारित क्विक-सुझाव.

शीर बद्र कि ग़ज़लों और शायरियों का संग्रह. Collection of Javed Akhtar Ghazals, Shayari and Lyrics (जावेद अख्तरकी ग़जलों, शायरियों और गीतों का संग्रह). Munawwar Rana – Tumhare sahar me mayyat ko sab kandha nahi dete (मुनव्वर राना – तुम्हारे शहर में मय्यत को सब काँधा नहीं देते). नुमान जन्मोत्सव विशेष. Munawwar Rana – Hukumat ke ishaare pe to murda bol sakta hai (मुनव्वर राना – हुकूमत के इशारे पे तो मुर्दा बोल सकता है).

Raj Rathod's Other Poems. हमा-सहमा दिल चुप-सा है. तु नहीं तो कोई और या नहीं. रे! ओ आशिक़ो ओ दीवानों. िर से टुटा है दिल. प्रेम है सोना. More poems of Raj Rathod .

गर पड़ोसी का पति खाना बनाने में या बच्चों को पढ़ाने का काम करता है तो हरगिज़ वो आपके पति से बेहतर नहीं है। आराम से आँखे बंद करके सोचिए कोई न कोई तो अच्छाई आपके पति में होगी ही। तो फिर उसी में खुश होकर इतराइये। ३- मेरे पास अपने लिए कितना समय है?? हर किसी का मन होता थोड़ा सा समय मैं खुद अपने तरीके से बिताउं। जब बच्चे स्कूल में और पति ऑफिस चले जाए तो एक घंटे सारे काम छोड़िए और जोर से म्यूज़िक ऑन किजिए और डांस किजिए या धीरे से गज़ल चलाकर आँखे बंद कर चुपचाप लेट जाइए या फिर जो दिल चाहें। क्या कहा जोएंट फैमिली है तो फिर जेठानी देवरानी के साथ अपनी टीम बनाइए। कोई भी काम आसान नहीं होता पर कोशिश तो कर.

Tracklist

A आँखों में बस के दिल में समाकर - गजल​
B बराबर से बचकर गुजर जानेवाले - गजल​

Companies, etc.

  • Manufactured By – The Gramophone Co., Ltd. Dum Dum. India

Credits

  • Lyrics By – Late Jigar Moradabadi*
  • Music By – Murli Manohar Swaroop*

Notes

Two Urdu Modern Songs - male vocal
Text on labels in Roman, Urdu & Devanagri

A - Aankhon Men Baskar Dilme Samakar - Gazal
B - Barabarse Bachkar Gujar Janewale - Gazal

Barcode and Other Identifiers

  • Matrix / Runout (Side A): OJW. 5863
  • Matrix / Runout (Side B): OJW. 5864

Related to Mukesh - आँखों में बस के दिल में समाकर - गजल​

Salil Chowdhury - Madhumati download flac

Salil Chowdhury - Madhumati flac download

Country: India
Style: Soundtrack, Bollywood, Hindustani
Krishnarao D. Tendulkar - Man Mohan Savala - Kafi download flac

Krishnarao D. Tendulkar - Man Mohan Savala - Kafi flac download

Released: 1937
Style: Indian Classical, Hindustani
Talat Mahmood - Hindustani Modern download flac

Talat Mahmood - Hindustani Modern flac download

Released: 1963
Style: Hindustani, Indian Classical